Skip to main content

Posts

Showing posts from February 7, 2015

तलाश

एक  ऐसा भी दौर गुज़रा  हम पे
                        समंदर में किश्तियाँ  डुबो  आये

                         पास क्या आया जाना ही नहीं
                         बेखौफ तन्हाइयों से मिल आये

                        रस्में दुनियाँ से क्यों करें शिकवा
                        कैसे  नादान थे जो ना समझ पाये

                         मेरे माज़ी को मेरी ही तलाश रही
                         हम  ना जाने कहीं और ढूंढ आये

                         फिर किसी गुमशुदा की तलाश करे
                         क्या पता इक रोज़  हमें मिल जाये

                          मासूम सी बेलौस हसरतें हैं ये ''अरू ''
                          ज़िंदगी इन से ही फिर शुरू की जाये
copyright : Rai Aradhana ©




--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------