Skip to main content

Posts

Showing posts from December 12, 2015

ज़माने बदल गए

साभार गुगल

मेरे तेरे अब वो ज़माने बदल गए
लोगों के आजकल फसाने बदल गए
----------------------------------------------------------
बदहालियों के जुर्म से कैसे निकल गए
रोजी की दौड़ में कितने तराने बदल गए
-----------------------------------------------
आँखों में जाने कितने शरारे मचल गए
ए- आसमां तेरे सारे नज़ारे बदल गए
--------------------------------------------------------
ज़मघट लगा कर लोग कितने निकल गए
मिलने मिलाने में कितने ज़माने बदल गए
---------------------------------------------------------------
रोशनी को देख कर परवाने जल गए
उम्मीद के गाँव से दीवाने बदल गए
----------------------------------------------------------------
फाका परस्ती में जितने दिन निकल गए
वक़्त के धारे में कितने चेहरे बदल गए
----------------------------------------------------------------------
आसमां के नाम पर "अरु" सितारे बदल गए
गुम चाँदनी हो गई झिलमिल नजारे बदल गए
आराधना राय "अरु"