Skip to main content

Posts

Showing posts from December 22, 2015

एहसास

दिल के एहसास को ज़िया जाता है
मुस्कुरा के हर दर्द पिया जाता है
---------------------------------------------------------------------------------
 इश्क़ में बदनाम हुआ जाता है
 रिश्ता  दिल से निभाया जाता है
--------------------------------------------------------------------------------
चोट लगने पे रोकर सो जाता है
मासूम दिल जब सताया जाता है
--------------------------------------------------------------------------------
 दामन में सिमट कर  बता जाता है
मेरा अक्स मुझ से  छिपाया जाता है
-------------------------------------------------------------------------------
दिल के दर्द का पता बता  जाता है
चाँद कि चाँदनी में समाया जाता है
----------------------------------------------------------------------------------
 कान्धों पे सर रख अश्क बहा जाता है
 ज़िन्दगी तुझ से क्या बताया जाता है
----------------------------------------------------------------------------------------
 बात कर ख़ुद हालात पर रो जाता है
  इल्ज़ाम  "अरु " पर लगाया जाता है
आराधना राय "अरु"














मन की भूमि

मन की भूमि
------------------------------
उपज रहा मन की भूमि पे
विप्लव अंकुर का ही धान
किस पे बाड़ लगा रोकोगे
कैसे बचा पाओगे सम्मान
-----------------------------------------
भूखा पेट राम ना क्या जाने
रवि और रंजन की बात यहाँ
कोडी और छदाम क्या जाने
अश्रू बहे, तन का लहू बहे यहाँ
-------------------------------------------------- नारी की लज़्ज़ा की बात कहूँ
माँ के उधड़े तन को देख कर
कौन सा मनुज है जो ये कहे
तेरा मुझसे क्या नाता है कहूँ
------------------------------------------------------ बाँझ रहे मन क्या किस से कहे
बोझ बेमानी क्यों स्वयं पे धरे
तरु उखड़ते भू पर क्या गिरे
झंझावातों से जो प्रतिदिन लड़े आराधना राय "अरु"