Skip to main content

Posts

Showing posts from January 18, 2016

मेरी सांसों में

मेरी सांसों में कविता
------------------------------------
तुम बसें हो मेरी सांसों में 
मेरी धड़कन में तुम समाते हो 
मैं थरथरा रही हूँ लों की तरह
तुम मेरे साथ -साथ जलते हो
गुम रह कर देख ली दुनियाँ
तुम अपनी साँस से महकते हो
तेरे संग रह कर पा लिया है तुझे
तुम मेरे रोम- रोम में बसते हो
मेरी नज़रों में धुंध सी रहती है
तुम किसी धूप सा मुस्कुराते हो
तेरे कदमों में ज़माना पड़ा
"अरु"तुम साया बन कर आते हो
आराधना राय "अरु"

तराना बहार का

चिडियों ने गाया तराना बहार का
रस्मों- रिवाज़ छोड़ कर सब्र-ओ-करार का

उसकी नादानियां भी कबूल हो गई
वादा निभाया जिसने अपने हज़ूर का

दोस्तों ने अपनी सब आदत बदल  ली
करना ना छोड़ा ज़िक्र मेरे शहर का

मालूम क्या रास्तों वो ही  मिले मुझे
साथ देता रहा कोई मेरी राहगुज़र का

ढूंढने से कोई इंसान  दिखाई नहीं दिया
देख लिया हाल  हमने अपने भी शहर का

सूरज ने उग कर फलसफा यही दिया
मुदद्त के बाद देखा "अरु" घर हमने सहर का

आराधना राय "अरु"

तो क्या होता

रदीफ- तो क्या होता- काफिया होता, क्वाफी-पता , अता,रहता आता खता
--------------------------------------------------
इश्क ना होता बता तो क्या होता
खुदा सामने होता तो क्या होता उनकी नज़रों से गिरा तो क्या होगा
संभल कर चलना आता तो क्या होगा उसका जीना मरना मेरे संग होता
बन कर मुरीद रहता तो क्या होता बंदगी उसकी तिजारत ना होती
होता वफ़ा का पता तो क्या होता निगाहों का गिरना उठाना ना होता
उसका करम होता अता तो क्या होता उस की अंजुमन से उठ जाते क्या होता
सह जाते "अरु" खता"तो क्या होता
© आराधना राय "अरु"