Skip to main content

Posts

Showing posts from January 19, 2016

नजाब शाहिद मिर्ज़ा "शाहिद" के मिसरे के ऊपर कही गई ग़ज़ल

तिभा-मंच की ओर से नजाब शाहिद मिर्ज़ा "शाहिद" के मिसरे के ऊपर कही गई ग़ज़ल---आर काफिया -रदीफ किसलिए फिलबदी -110 से हासिल आश्यार अर्ज़ है मतला - लोगों की नज़र में बने खार किसलिए
चलती है बात-बात में तलवार किसलिए
-----------------------------------------------------------------------
मतला -2 रातों को जागते रहे नाउम्मीदी किसलिए
सहते रहे है दर्द हुए बीमार किसलिए
-------------------------------------------------------------------------------------------------
जुबां से तीर -ओ- खंज़र चलाए हज़ार बार
खामोश हो गए है तलबगार किसलिए
-----------------------------------------------------------------------------------------------
ज़ख़्म मिले है लोगों से जहां में बार बार
नासूर बन बहे है हरबार किसलिए
-------------------------------------------------------------------------------------------------
नुमाईश सी बाज़ारों में सजती है लडकियाँ
गुरबत के हाथ रोज़ तिरस्कार किसलिए
----------------------------------------------------------------------------------------------
बन गया बाज़ार रातों -रात मेरा तमाम देश
इस माशरे में दहेज़ की …