Skip to main content

Posts

Showing posts from October 25, 2016

वो

दुखों  कि  गठरी  बांध  कर
वो  मेरे  घर  आता  है
हँसता  है  मुस्कुराता  है
अपनी  नम  आँखे  लिए
वापस  लौट  जाता  है

कैसे  कहे  वो  दर्द  सीने  के
अपना  हर  रिश्ता  आज़माता  है

किसे  दर्द  कह दे  किसी  के  नाम
लिख  दे
वह अपने  रंज  पर  बस ठहाके  लगता  है

खामोश हो  सब  सह  लेगा  या दर्द
का दरिया  बन  जायेगा

एक  ना  एक  दिन  वो  समंदर  सा
अपना सब  दर्द  सह  जायेगा
आराधना