Skip to main content

नज़्म

 उम्र के पहले अहसास सा
कुछ लगता है
वो जो हंस दे तो रात को
 दिन लगता है

उसकी बातों का नशा
आज वही लगता है
चिलमनों की कैद में वो
 जुदा  सा लगता है

उसकी मुट्टी में सुबह बंद है
शबनम की तरह
फिर भी बेजार जमाना उसे
लगता है

आराधना



Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




नज्म

नज्म इश्क़ कि बाते सभी करते है क्या जाने   दिल अपना के रखते है क्या वो क्या जाने
इश्क़ का जादू है मिराज़ है धोका क्या जाने
मर कर जीते  है रस्म ए अदायगी क्या जाने

आग सीने में लगी है दिल का तमाशा क्या जाने  दो बूंद थे दिल के छलक गए वफा के नाम क्या जाने

वो खाक उड़ाते है, रास्तों पर क्यू  कहाँ क्या जाने हम उनको दुआ देते है,रह रह कर अरु क्या जाने

नज्म आराधना राय अरु
नज्म में भार तोल माप होता है पर रदीफ और काफिया नहीं

रेज़गारी

बात1976 की है, हम उन दिनों राम कृष्ण पुरम सेक्टर -6 में रहते थे। मुझे तो आज तक उस घर का नम्बर भी याद है, A 198 पास ही स्कुल था और स्कुल के सामने घर। बड़ी दीदी को 5 पैसे मेरी मझली दीदी को भी 5 पैसे और भाई और मुझे भी 5 पैसे रोज़ के मिलते थे। पांच पैसे मेरे हाथ में जैसे ही आए.में आइस बार लेने की सोची, बड़ी दीदी ने चुपचाप एक गुलक में डाल दिए। मझली दीदी को क़िताबे पढने में रूचि थी पर किराये पर भी किताब 25 पैसे में थी,सो उनके पैसे भी गुलक में गए भाई स्कूल पेदल आता जाता था सोउसके पाच पैसे भी गुलक में गए। शाम तक 5 पैसे को हाथों में लेकर बैठी रही,क्या पाता बर्फ का गोला मिल जाए या राम जी की खट्टी -मिट्टी गोलियां,पर घर के आस पास कोई खोमचे वाला नहीं आया था। बड़ी दीदी 12 साल की थी मझली दीदी 9 साल की और मैं और भाई जुड़वाँ थे, 6 साल के। उस दिन लगा, काश बड़े होते तो मज़े से पैसे को जेब में रख कर गोला तो खा ही सकते थे।उस दिन वाला सिक्का क्या हर दिन ५ पैसे गुल्क पे मेहरबान हो गए। बड़ी दीदी ही सब में समझदार थी,उन्होंने कहा महीने भर बाद सब सब के पैसे इक्कठे हो जाएगे तब कुछ खरीदेगे , दीदी बड़ी थी उन की बात हम भाई ब…